204.ज़िस्म  के  रिश्ते  ख़ुश-रंग होते हैं- कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

204.ज़िस्म  के  रिश्ते  ख़ुश-रंग होते हैं- कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan December 26, 2022
Share0 Bookmarks 207 Reads1 Likes
ज़िस्म  के  रिश्ते  ख़ुश-रंग होते हैं,
आख़िरी  साँस तक ही संग होते हैं 
बेवफ़ा ज़िंदगी का ऐतबार न कीजे
रूह के रिश्ते ही शफ़क़-रंग होते हैं।
-© कामिनी मोहन पाण्डेय 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts