फर्क सोच का , कामयाबी's image
Peace PoetryPoetry1 min read

फर्क सोच का , कामयाबी

Jitendra MeenaJitendra Meena November 21, 2021
Share0 Bookmarks 76 Reads0 Likes
कामयाबी सुनती सबकी है 
किसी से अच्छा 
तो किसी से बुरा ।

लेकिन शान्त रहती है 
उसकी खास खूबी है कि
वो अपने मन की करती है ।

कामयाबी जल्दबाजी 
नही करती  , 
वो समय का 
इन्तजार करती है ।

जो जल्दबाजी करते है 
वो नौकर ही बनते है और
सरकार और शासन 
की गुलामी करते है ।

फर्क सिर्फ सोच का है !

© जीतेन्द्र मीना ' गुरदह '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts