एहसास's image
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes

तुम्हारा कभी-कभी

राह में मिल जाना,

कभी लबो पे तुम्हारा

जिक्र आ जाना,

जानती हो किस तरह का एहसास हैं ?

ऐसा जैसे

सर्दियों में बारिश का होना।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts