Quarantine diaries's image
Share0 Bookmarks 66 Reads0 Likes

मुद्दतो से इंतज़ार था जिन्हें वो मुद्दत का

वो मुद्दत भी आई तो सिर्फ मुद्दत बढ़ाने के लिए।


सर्दी गर्मी या बारिश मैं कमाने जाते थे जो हररोज,

हालातों के मारे, चूल्हे भी ठंडे पड़े है आंच जलाए हुए।


आए थे कुछ फरिश्तो चोखट पे ले कर थोड़ी खुशियाँ,

नम आंखें और दिल पर पथ्थर रखकर भेज दिया वापस ना कह कर।


बेशक ज़िंदा है इंसानियत वरना पराए भी दरवाज़े आए ना होते,

पर अभिमान तो सबका होता है यूँ तसवीर खिंचके काश उसे गिराए तो ना होते।।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts