शायरी लिखी नहीं जाती || शायरी || एम ए हबीब इस्लामपुरी || Arman islampuri's image
Poetry1 min read

शायरी लिखी नहीं जाती || शायरी || एम ए हबीब इस्लामपुरी || Arman islampuri

एम ए हबीब इस्लामपुरीएम ए हबीब इस्लामपुरी March 14, 2022
Share0 Bookmarks 146 Reads1 Likes
मुस्कुराना सीखा दे कोई मुझको भी, 
अब मुझसे शायरी लिखी नहीं जाती।  


✍ एम ए हबीब इस्लामपुरी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts