एक ग़ज़ल's image
Share1 Bookmarks 34 Reads0 Likes
यूँ तो सावन की फ़िज़ा कुछ और है
टूटे छप्पर की सदा कुछ और है।


आसमां खुद में मगन बेशक रहे
इस परिंदे की अदा कुछ और है।


 मन्ज़िलों की अब किसे परवाह है
मेरा मकसूद ए सफऱ कुछ और है।


सांस लेना ही नहीं है ज़िन्दगी
ज़िन्दगी का सिलसिला कुछ और है। 


उसको पहचाने न जाने है कोई
सब कहें कुछ और,वो कुछ और है।




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts