अगर बारिश नहीं होती's image
Poetry1 min read

अगर बारिश नहीं होती

iamsahilmishraiamsahilmishra January 10, 2023
Share0 Bookmarks 8 Reads0 Likes

अगर नहीं होती बारिश

तो नहीं बुझती धरती की प्यास

शायद नहीं होते बीज अंकुरित

नहीं बनते पौधे कोई पेड़

नहीं पनपता जीवन।


बस स्टैंड के पास

नहीं भींगते प्रेमी जोड़े

नहीं होती कोई संभावना 

उनके पास आने की।


न कभी बनते नाव कागज़ के

न कभी बचपना दौड़ता ख़ाली पैर

ना ही बनता कोई इंद्रधनुष क्षितिज पे।


हम नहीं जान पाते-

सूखी लकड़ियों की अहमियत

बाढ़ में बह जाने की त्रासदी


अगर बारिश नहीं होती

बहुत कुछ है जो शायद नहीं होता

बहुत कुछ है जो हमें पता नहीं होता।


साहिल मिश्रा


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts