फर्ज़ निभाएंगे's image
Love PoetryPoetry1 min read

फर्ज़ निभाएंगे

Harsh saxenaHarsh saxena November 19, 2021
Share0 Bookmarks 120 Reads2 Likes

इश्क़ किया तो ये फर्ज़ भी निभायेंगे
तुम मेरी न सही हम तो तेरे कहलाएंगे

मैं बखूबी वाक़िफ हूं आगे के मंजर से
तुझे याद करेंगे और बहुत पछतायेंगे

हम अपनी मोहब्बत कुछ यूं अंजाम देंगे
तुम से अपनी कमीज़ पर बटन टकवाएंगे

तुम किसी से तो वफ़ा निभाकर दिखाओ
हम अपने हाथों से तेरी डोली सजाएंगे

मुझ से ऊब कर गई हो तुम जिसके पास
वो सबसे पहले तेरे कपड़े उतरवाएंगे

जिस तरह तूने मुझे हल्के में आंका है जाना
एक रोज तेरे बच्चे मेरे ही शेर सुनाएंगे

        – हर्ष सक्सेना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts