ग़ज़ल's image
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes

किसी ने हमको दिया है ये मशवरा बेहतर

जिन्हें ग़ुरूर हो उनसे तो फ़ासला बेहतर


निभे न एक से रिश्ता तो दूसरा बेहतर

हमें बता के गए हैं ये रहनुमा बेहतर


भरो उड़ान तो उड़ते रहो फ़ज़ाओं में

ज़मीं पे रेंगते रहने से वो ख़ला बेहतर


किसी के लाख उठाने पे भी न उठ पाया

सदा-ए-रिंद जो गूॅंजी मैं उठ चला बेहतर


बुझा बुझा के सभी थक गए मगर इक रोज़

चराग़ बन के ज़माने में मैं जला बेहतर


कभी मिलेंगे सनम हम तो बस ये पूछेंगे

हमें तो ख़ाक मिली तुमको क्या मिला बेहतर 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts