पिघल रहा हूँ मैं...'s image
Share0 Bookmarks 69 Reads0 Likes

सर से पांव तक जल रहा था मैं,

छूआ जो तुमने पिघल रहा हूँ मैं।

©गोपाल भोजक।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts