परिंदे's image
Share0 Bookmarks 82 Reads1 Likes

अब तो चुपचाप गुज़र जाती है सुबहो शाम,

परिंदों की चहचाहट जाने कहाँ खो गई।

©गोपाल भोजक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts