महबूब की आँखें's image
Share0 Bookmarks 55 Reads0 Likes

मुझको मय की दरकार नहीं है साकी,

महबूब की आँखें शराब से कम नहीं।

©गोपाल भोजक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts