लफ़्ज़ों की तहरीर's image
Share0 Bookmarks 87 Reads0 Likes

हाले दिल लिखता रहा वो फिर भी अनजान रहे,

मेरे ख़त के लफ़्ज़ों की उनसे न तहरीर हुई।


©गोपाल भोजक







No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts