बंद कर दो युद्ध's image
Poetry2 min read

बंद कर दो युद्ध

Geeta TandonGeeta Tandon March 2, 2022
Share0 Bookmarks 45 Reads0 Likes

बंद कर दो युद्ध


यूक्रेन और रूस

युद्ध से तुममें से

कोई एक हार जाएगा

कोई जीत जाएगा

जो जीतेगा वह भी 

बहुत कुछ खो चुका होगा

जो हारा हुआ है

वह पछतायेगा

ये जरूरी नहीं!

युद्ध बताता है कि

हम अभी मनुष्य

नहीं बने हैं

क्योंकि पशुओं को

अपनी शक्ति का प्रदर्शन

करना होता है

अपने तन की भूख के लिए

अपनी रक्षा के लिए...

युद्ध शान्ति को नहीं

नफ़रत को जन्म देता है

युद्ध धर्म को नहीं

अधर्म को उकसाता है

युद्ध प्रगति नहीं

अधोगति में ले जाता है

युद्ध सुख को

दुःख में बदलता है

युद्ध प्रेम में

दोस्ती में

संबंधों में

दरार पैदा करता है

युद्ध दीवार खड़ी करता है

कभी देशों के बीच

कभी दिलों के बीच

युद्ध आनेवाली नस्लों को

बर्बाद कर देता है

क्योंकि जिन्होंने

युद्ध के बाद की

तबाही, तकलीफ़

और घृणा झेली है

वे कभी किसी को

प्रेम नहीं कर पाते

वे जीवन से इतना 

लड़े होते हैं कि

उनके लिए युद्ध

एक खेल बन जाता है

और अक्सर ऐसे लोग

युद्ध के जरिए ही

सब कुछ हासिल करना चाहते हैं

वे अपनी शक्ति का प्रदर्शन

युद्ध द्वारा करते हैं

क्योंकि उन्होंने कभी 

यह महसूस ही नहीं किया कि

जो दुनिया में शान्ति फैलाता है

वही शक्तिशाली बन जाता है

क्योंकि जो शांत है

वह निर्भय है

जो शांत है

वह स्वतंत्र है

जो शांत है

वह आनंदित है

अगर ऐसा नहीं है तो

इतिहास उठाकर देखो!!

वे सब जो युद्ध के लिए

आतुर रहें हैं वे वही हैं

जिन्हें कभी प्रेम नहीं मिला

जिन्होंने कभी शान्ति का

आनन्द नहीं महसूस किया

जो ख़ुदको बहुत

कमज़ोर मानते थे

जो नहीं बना सके

खुदको मनुष्य...


गीता टण्डन

2.03.2022

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts