हमनवां's image
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes

हमनवां


क्या करूं

ना मैं अपने आप को रोक पा रहा हूं

ना उसकी याद दिलसे भूला पा रहा हूं

जितना भी कोशिश करूं उसे भूलाने की

उतना ही ज्यादा मैं उसको याद करूं


क्या करूं

ना उसकी सूरत आंखोसे ओझल कर पा रहा हूं

उसकीही सूरत नजर आए जहांतक नजर लगाऊ

जितनी ज्यादा कोशिश करूं उससे दूर रहनेकी

उतनाही ज्यादा उसके करीब जाता पाऊं


क्या करूं

ना उसकी नजर से अपनी नज़र हटा पा रहा हूं

ना उससे नज़र मिलानेकी हिम्मत जुटा पा रहा हूं

ना अपने दिलसे उसकी चाह मिटा पा रहा हूं

हर पल हर पल उसमेंही उलझता जा रहा हूं


क्या करूं

ये जानते हुए भी की वो अब मेरी नहीं है

ये जानते हुए भी की किसी और की है

ये जानते हुए भी की वो मेरी कभी नही होगी

उससे प्यार करनेकी गुस्ताखी करने जा रहा हूं 


क्या करूं

मुझे तुम से फिर से प्यार होता जा रहा है

जो बात पहले कभी ना बता सका था

वोही बात एक बार कहना चाह रहा हूं

एक बार इज़हार-ए-प्यार करना चाह रहा हूं


वो इज़हार करें या ना करें, मैं मांगू तोभी मन्जूर ना करें 

कहीं ऐसा न हो की मैं फिर से बहक जाऊं

मैं इतना ही चाहूं मुझे प्यार करने से ना रोके

हमसफ़र ना बनी तो ना सही, मेरी हमनवां तो बनें


इब्न ए बब्बन

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts