लोग क्या कहेंगे?'s image
Poetry2 min read

लोग क्या कहेंगे?

Rashmi JainRashmi Jain December 13, 2020
Share0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

कुछ करने से पहले 

कोई नई राह पकड़ने से पहले 

मंज़िलों से दिल लगाने से पहले,

दो लोगों से राय ले लेना 

चार लोगों साथ बैठ सलाह मशवरा ज़रूर कर लेना 

अगर उनकी भी सलामती हो, तो फिर आगे बढ़ लेना 

अपनी मनमानी ना करना !

नहीं तो, लोग क्या कहेंगे?

एक बार ज़रा सोच लेना 


कुछ सोचने से पहले 

सपने अनोखे देखने से पहले 

सतरंगी ख़्वाब बुनने से पहले,

अपने आजु-बाजू लोगों के मन को टटोल लेना 

आजकल क्या है ट्रेंड में 

लोगों से जानकारी तो ले लेना 

उन्मुक्त गगन में खुली उड़ान यूँ ही ना भरना यारा !

वरना, लोग क्या कहेंगे? 

थोड़ा अपने दिल-ओ-दिमाग़ में झांक ज़रूर लेना 


दिल का कहा मानने से पहले 

चाहतों की सेज सजाने से पहले

अपनी ख़ुशियों का जहां बसाने से पहले 

लोगों से एक बार पूछ तो लेना 

लोगों की रज़ामंदी है या नहीं 

ये जान तो लेना 

यूँ ही चाँद की सैर पर ना निकल पड़ना !

नहीं तो, लोग क्या कहेंगे?

अपना नहीं तो अपनों का एक बारी ख़्याल तो कर लेना 


हाँ! यही तो कहा जाता है हमें 

आते जाते यही तो समझाया जाता है हमें 

हम दुनिया में कदम बाद में रखते हैं 

पहले दुनियादारी का फ़लसफ़ा पढ़ाया जाता है 

लोगों के तरफ़ हमारी ज़िम्मेदारी का एहसास दिलाया जाता है 

भई! एक जागरूक नागरिक होने का पूरा फ़र्ज़ अदा किया जाता है 

चंद साँसें भी ऊपर नीचे हो 

तो धड़कनों से बैर किया जाता है 

अरे! समझदार भी वही है यहाँ 

जो लोगों की समझ अनुसार नित्य कर्म किए जाता है !


ऐसे में बोलो 

क्या कोई विकल्प है यहाँ ?

कोई नयी सोच की जगह है कहाँ !

अरमान भी सारे सो रहे होंगे कहीं 

सपने भी तकिए तले दम तोड़ रहे होंगे कहीं 

हँसी छुपी बैठी होगी दुबके किसी कोने में 

क़ुर्बान हुई होंगी लाखों हसरतें 

लोगों के बस एक हाँ के वास्ते !

पर फर्क क्या पड़ता है 

पर फर्क क्या पड़ता है और किसको पड़ता है ?

हमें तो फर्क नहीं, फ़िक्र करनी है 

और उन लोगों की जिन्हें हम पर कभी कोई फक्र नहीं !

वरना…


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts