बदलाव की आहट's image
Poetry1 min read

बदलाव की आहट

Ek PathikEk Pathik August 23, 2021
Share0 Bookmarks 28 Reads0 Likes

हवाओं का रुख कुछ बदला-बदला सा है,

अमावस का चाँद भी उजला-उजला सा है,

संगमरमर की चट्टानों ने भी आज भरी है साँस,

दुनिया बनाने वाले का मिज़ाज कुछ बदला-बदला सा है |

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts