साक़ी-ए-मयख़ाना (Part-2)…'s image
Poetry2 min read

साक़ी-ए-मयख़ाना (Part-2)…

Dr. SandeepDr. Sandeep February 3, 2022
Share0 Bookmarks 487 Reads1 Likes

पिला दे अपनी नज़रों का जाम साक़ी

आ गई अपने मिलन की शाम साक़ी..

दिन रात गुज़ारी मयख़ाने में ज़िंदगी

अब आगोश में चाहता हूँ आराम साक़ी..

हालात-ए-ज़िंदगी यूँ परेशान किए हुए

जाम-ए-सुकूँ भी लगता है हराम साक़ी..

मय-कदे से अब कर ली है तौबा मैंने

जब से मिला है ये तेरा पयाम साक़ी..

पर मय-कदे का भी ये अज़ब दस्तूर है

ना पीऊँ तो करते हैं मुझे बदनाम साक़ी..

कोई और ठिकाना नहीं रक़्स-ए-मस्ती का

दिल-ए-ज़ार को कर क़ैद-ए-मक़ाम साक़ी..

तेरी नज़रों में बसा हुआ है पूरा मयख़ाना

मैं हुआ तेरी इन नज़रों का ग़ुलाम साक़ी..

कभी दिल को फ़स्ल-ए-बहाराँ थी रास नहीं

अब तेरे साथ बितानी ज़िंदगी तमाम साकी..!!

#तुष्य

पयाम: संदेश, दिल-ए-ज़ार: घायल दिल, क़ैद-ए-मक़ाम- एक जगह क़ैद करना, फ़स्ल-ए-बहाराँ: बसंत ऋतु

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts