दर्द-ए-जुदाई…'s image
Poetry1 min read

दर्द-ए-जुदाई…

Dr. SandeepDr. Sandeep November 27, 2021
Share0 Bookmarks 144 Reads1 Likes

तुमसे कुछ कहना चाहता हूँ पर कह न सकूँगा

लेकिन तुम्हें कुछ बोले बगैर भी रह न सकूँगा..

जानता हूँ कुछ यूँ ज़िंदगी गुज़र रही तन्हाई में

लेकिन अब तुम्हारी रंज-ए-जुदाई सह न सकूँगा..

इस दिल-ए-मुज़्तर में कुछ यूँ बढ़ रही है बेचैनी

अब बिना देखे तुम्हें मैं ज़िन्दा रह न सकूँगा..

तेरे तसव्वुर में इन आँखों में नींद नहीं आती

सियाह रातों की मैं ये तन्हाई सह न सकूँगा..

नहीं आता तुम्हारे बिन अब मेरे दिल को करार

वापस लौट आओ अब ये दूरी मैं सह न सकूँगा..!!

#तुष्य

रंज-ए-जुदाई: विरहा का दुख, दिल-ए-मुज़्तर: व्याकुल ह्रदय, तसव्वुर: ख़्याल, सियाह रात: काली रात

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts