फ़लसफ़ा-ए-ज़िंदगी...'s image
Poetry1 min read

फ़लसफ़ा-ए-ज़िंदगी...

Dr. SandeepDr. Sandeep June 16, 2022
Share0 Bookmarks 244 Reads1 Likes

मौत को तो लोगों ने यूँ ही बदनाम कर रखा है

रोज़ नई तकलीफ़ तो ज़िंदगी ने ही ज़्यादा दी है..

---

जिंदगी के बाद मौत ही तो गले लगाती है

फिर भी हर पल ज़िंदगी ही हमें डराती है..

---

ज़िंदगी में इंसान को बहुत चोट खानी पड़ती है

कई बार जीने के लिए मौत गले लगानी पड़ती है..

---

इंसान को मौत नहीं उसकी ज़िंदगी ही मारती है

इसी फ़िक्र की वजह से ही इंसानी ज़िंदगी हारती है..

---

मौत तो अपने आगोश में चैन की नींद सुलाती है

ज़िंदगी ही है जो ताउम्र बस ख्वाबों के पीछे भगाती है..!!

#तुष्य

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts