अल्फ़ाज़-ए-दिल…'s image
Poetry1 min read

अल्फ़ाज़-ए-दिल…

Dr. SandeepDr. Sandeep May 3, 2022
Share0 Bookmarks 592 Reads2 Likes

कुछ राब्ता तो है तभी अल्फ़ाज़-ए-दिल मचलते हैं

सफ़ेद मोती गहरे अथाह सागर से ही निकलते हैं..

जो रिश्ता दो दिलों की रूह को रूह को बाँधता है

उसी मोहब्बत से नूर-ए-क़लम पत्थरदिल पिघलते हैं..

सच कहूँ तो रूह को छू जाते हैं लिखे अल्फ़ाज़ तेरे

इनको पढ़कर मेरे जज़्बात रेत की तरह फिसलते हैं..

रोशन है ज़िंदगी का दिया पयाम-ए-अजल आनेतक

तबतक आलम-ए-मस्ती में आकर अरमान मेरे उछलते हैं..

मतगिरा हम-क़लम मुझ पर यूँ लफ़्ज़ों की बिजलियाँ

जो न हो सकेगें मुकम्मल ऐसे हसीन ख़्वाब मसलते हैं..

पतझड़ में पत्तों की तरह बिख़र जाते हैं अरमान मेरे

फूल की चाह में मोहब्बत करने वाले काँटों पर ही चलते हैं..!!


राब्ता: संबंध, पयाम-ए-अजल: मौत का संदेश

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts