आहट's image
Share0 Bookmarks 56 Reads0 Likes

कोई दरवाज़े पे खड़ा है 

कभी कभी 

कमरे में बैठे-बैठे महसूस करता हूँ 


एक रोज़ तंग आकर, दरवाज़ा खोलता हूँ 

अब आज़ाद है परछाईं तेरी 

अपनी आहट से बोलता हूँ 


फिर दरवाज़ा बंद कर भूल जाता हूँ 

अपनी आवाज़ 

हर रोज़, दोहराता हूँ ख़ुद को 

बार बार 


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts