कविता और मैं's image
Share0 Bookmarks 28 Reads0 Likes

कुछ सुलझी,कुछ उलझी,कुछ गम की,तो कुछ मौजों की रवानी है

मेरी सारी कविताएं अब कहानी हैं....

~दीपक पाटकार

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts