Khoobsurat Samjhauta's image
Share0 Bookmarks 60 Reads1 Likes

एक दिन तुम भी थक जाओगे

एक दिन हम भी थक जाएंगे

तो क्यों न एक समझौता कर लेते है

तुम तुम हो जाओ , और हम 'हम' हो लेते है


फिर ये अनबन सी भी नही रहेगी

तेरी आँखे मुझे कुछ नही कहेंगी

मेरी रूह फिर कोई दर्द नही सहेगी


न होगी फिर वो मुलाकातें कभी

न फिर होगी हमारी मासूम बाते कभी

फिर न तेरा बिना बात के रूठना होगा

न फिर मेरा वो तुझे मनाना होगा

ना ही एक दूसरे पे हक जताना होगा ।


तो क्यों न एक समझौता कर लेते है 

तुम तुम हो जाओ, हम हम हो लेते है ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts