मिल जायेगा हम को भी टुट कर चाहने वाला
पुरा शहर तों बे-वफा ओ का गढ़  नहीं  होता's image
Love PoetryPoetry1 min read

मिल जायेगा हम को भी टुट कर चाहने वाला पुरा शहर तों बे-वफा ओ का गढ़ नहीं होता

Bhadresh DesaiBhadresh Desai October 30, 2021
Share0 Bookmarks 19 Reads1 Likes
Kavishala

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts