रसाल छंद "यौवन"'s image
Poetry2 min read

रसाल छंद "यौवन"

Basudeo AgarwalBasudeo Agarwal August 8, 2022
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes

रसाल छंद


यौवन जब तक द्वार, रूप रस गंध सुहावत।

बीतत दिन जब चार, नाँहि मन को कछु भावत।।

वैभव यह अनमोल, व्यर्थ मत खर्च इसे कर।

वापस कबहु न आय, खो अगर दे इसको नर।।


यौवन सरित समान, वेगमय चंचल है अति।

धीर हृदय मँह धार, साध नर ले इसकी गति।।

हो कर इस पर चूर, जो बढ़त कार्य बिगारत।

जो पर चलत सधैर्य, वो सकल काज सँवारत।।


यौवन सब सुख सार, स्वाद तन का यह पावन।

ये नित रस परिपूर्ण, ज्यों बरसता मधु सावन।।

दे जब तक यह साथ, सृष्टि लगती मनभावन।

जर्जर जब तन होय, घोर तब दे झुलसावन।।


कांति चमक अरु वीर्य, पूर्ण जब देह रहे यह।

मानव कर तु उपाय, पार भव हो जिनसे यह।।

रे नर जनम सुधार, यत्न करके जग से तर।

जीवन यह उपहार, व्यर्थ इसको मत तू कर।।  

=================


रसाल छंद विधान -


"भानजभजुजल" वर्ण, और यति नौ दश पे रख।

पावन मधुर 'रसाल', छंद-रस रे नर तू चख।।


"भानजभजुजल" = भगण नगण जगण भगण जगण जगण लघु।

211 111 121 // 211 121 121 1 = 19 वर्ण का वर्णिक छंद, यति 9 और 10 वर्ण पर, दो दो या चारों पद समतुकांत।


(इसका मात्राविन्यास रोला छंद से मिलता है। रसाल गणाश्रित छंद है अतः हर वर्ण की मात्रा नियत है जबकि रोला मात्रिक छंद है और ऐसा बन्धन नहीं है।)

*******************


बासुदेव अग्रवाल 'नमन'

तिनसुकिया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts