हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली,
कुछ यादें मेरे संग पाँव पाँव चली,
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ,
वो ज़िन्दगी ही क्या जो छाँव-छाँव चली's image
Article1 min read

हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली, कुछ यादें मेरे संग पाँव पाँव चली, सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ, वो ज़िन्दगी ही क्या जो छाँव-छाँव चली

@ susheel kumar@ susheel kumar December 22, 2022
Share0 Bookmarks 36 Reads0 Likes
लिख नही सकता

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts