वर्ष 2022's image
Share0 Bookmarks 19 Reads0 Likes
वर्ष 2022, तुमने 
जो भी दिया, हमने हंस के लिया
पतझड़ दिया या फिर बसंत दिया
आरम्भ दिया या फिर अंत दिया ,
शहर दिया या फिर गांव दिया
धूप दिया या फिर छांव दिया ,
राख दिया या फिर नाम दिया
सुबह दिया या फिर शाम दिया ,
घृणा दिया या फिर प्यार दिया
जीत दिया या फिर हार दिया ,
जो भी दिया, हमने हंस के लिया

वर्ष 2022,
तुम्हारी हां में कभी ना नहीं किया,
तुम्हारी ना में कभी हां नहीं किया।
तुमने जो भी दिया, हमने हंस के लिया ।

वर्ष 2022 तुमने जो भी दिया 
उसके लिए तहे दिल से शुक्रिया ।

-- बद्री नाथ कोईरी 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts