है मुश्किल's image
1 min read

है मुश्किल

Azhar pathanAzhar pathan June 16, 2020
Share0 Bookmarks 58 Reads1 Likes

हम सहकर चले जो ख़लिश

बताना है मुश्किल

रातें क्या थी खामोश दिन कितने झियां

सुनाना है मुश्किल

चलें हम पैरों में कितने जफ़ा लेकर

दिखाना है मुश्किल

न ज़ाबित बने न ज़ाबिता निभा पायें हैं

जहां भी गये ज़र्ब लेकर लौट आयें हैं

हर बार करने को दूर जो तारीक निकले

हम खुद अंधेरे से भरपूर लौट आयें हैं

रोशनी तो खुद बे ताब है होने को ख़लास

इस जहान में कौन ताउम्र दाग छुपा पाएं हैं

है आसान कुछ बे नज़ीर करना हमारे लिए पर

ज़ताना है मुश्किल

~अज़हर

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts