ज़िम्मेदारी's image
Poetry1 min read

ज़िम्मेदारी

AZAD MADREAZAD MADRE October 19, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
वो क़रीब आए तो सारी जिम्मेदारी उसकी है,

कि उसवक़्त अपने ही बस में नही रहते हम।

~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts