पैगाम ए मोहब्ब्त's image
Poetry1 min read

पैगाम ए मोहब्ब्त

AZAD MADREAZAD MADRE February 22, 2022
Share0 Bookmarks 22 Reads0 Likes
जब ये सारी दुनिया सांप पकड़ने में लगी थी,
हम वो है जिन्होंने तब भी तितलियां पकड़ी।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts