ख़्वाब's image
Share0 Bookmarks 24 Reads0 Likes
अब रातों को जागते हुए सोचते है,
हम भी कैसे कैसे ख़्वाब देखते थे।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts