ख़ुदपरस्ती's image
Poetry1 min read

ख़ुदपरस्ती

AZAD MADREAZAD MADRE May 27, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
ख़ुदपरस्ती का कुछ इसकदर शिकार है कि वो हमेशा,
मेरे सही से सही काम में भी गलती निकाल देता है।
~आज़ाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts