क़लम's image
जिन्हें देखकर जीने की आदत थी,
अब उनके बिना ही जीना मजबूरी है,
देखकर हमें लोग बाग़ कहते हैं ऐसा,
हालत मेरी कुछ बिगड़ी कुछ सुधरी है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts