ना है कोई आश्ना's image
Share0 Bookmarks 149 Reads0 Likes

ना है कोई आश्नां ना जानी है मेरा ना रक़ीब है तू

ऐ अजनबी फिर ये बता क्यों मेरे इतने करीब है तू 


सादिक जज्बों की पाक मोहब्बत ठुकरा दिया तूने

ऐ बेवफा तू है बहुत खूबसूरत पर बदनसीब है तू 


तेरे मेरे दरमियां रहा कुर्बत का लम्हा भी फासलों सा

पर दूरियों में भी रहे जो करीब मेरा वो हबीब है तू 


मिला मुझ मकबूल को तेरी बेवफाई का अकूत गंज 

ये इल्म कहां जमाने को जो कहता मुझे गरीब है तू


✍मक़बूल_कटनीवाला

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts