ईश्वर से प्रार्थना's image
Share0 Bookmarks 102 Reads2 Likes
जन्मों से मुक्ति मिले मुझको
ऐसी की है साधना नहीं
सद्कर्मों बिन सद् गति पाऊं
ऐसी मेरी कामना नहीं
           मेरे द्वारा जग-अहित न हो
           प्रभु इतनी समझ मुझे देना 
           तन -तरनि से कुछ भाव-सिन्धु सजे
           इसको ऐसे ढंग से खेना 
 दुष्कर्म न पापाचरण करूं
 अन्याय न मुझसे हो पायें
 भगवान तुच्छ निज सेवक पर
 इतनी अनुकम्पा बरसायें
                  ईश्वर अल्लाह गुरु गॉड बुद्ध 
                   साईं जी नाम तुम्हारे हैं 
                    भगवान आपके नाम सभी
                    मुझको लगते अति प्यारे हैं
  मज़हबी कुतर्कों को तुरंत 
  प्रभु मुझसे दूर भगा देना 
  हर मानव मेरा भाई है 
  मन में यह सोच जगा देना 
             यदि अनायास बेहोशी में 
             प्रभु मेरे प्राण यदि निकल जायें
              तो और न कुछ , है अर्ज उन्हें
              फिर नव नर तन में पहुंचायें
 सुख-दुःख मय मानव-जीवन फिर
 मेरे हित होगा सुखदाई 
 जो पात्र समझना तो देना 
 ज़िद नहीं , न कोई चतुराई 
             नर-तन फिर मिल पाया तो फिर
               मैं नाम आपका ध्याऊंगा 
               वरना युग-युग के जन्मों तक 
                हे नाथ तुम्हें बिसराऊंगा 


"भास्कर" मलिहाबादी 
 
                     

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts