खुद के बहाव में...'s image
Kavishala DailyPoetry1 min read

खुद के बहाव में...

Anu singhAnu singh July 17, 2022
Share0 Bookmarks 77 Reads2 Likes

मैं खुद के बहाव में रही

न जीत में ,न हार में रही

ख़ुद में ही जिया खुद को

हर पल अपने विश्वास में रही

न जग में रही ,न वैराग्य में रही

अपनी धुन अपनी चाह में रही

लोग बुझ गए जिसमे जल कर

मैं हर क्षण उसी ताप में रही

न मंजिल में रही,न राह में रही

मैं अपनी ही हर शाम में रही

न महफ़िल में रही,न तन्हाई में रही

मैं अपनी गीत,अपनी ही ग़ज़ल में रही

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts