trust  your struggle.'s image
Share0 Bookmarks 27 Reads0 Likes
कौन था जो sambhalta मुझको,
ठोकरों ने ही सम्भाला होगा,
एक दिये ने कहा था मुझसे
तुम jaloge तो उजाला होगा,
ये समुंदर की लहरों ka यकीन था
मुझे उनकी कश्ती का सहारा तो जरूर होगा ,
अरमाँ तो हमारे भी है शौक से जीने के,
In शोहरतो के आगे सपनों का बिक जाना,
अब मुझे ये मंजूर ना होगा!!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts