इश्क़ का इज़हार's image
Poetry1 min read

इश्क़ का इज़हार

mr4nkumr4nku January 18, 2023
Share0 Bookmarks 131 Reads2 Likes
वो ग़मगीन स्र्ख़ के 
साथ कही, अंकित! 
करते हो इश्क़ मुझसे?
मैं निःशब्द था!
शब्दहीन। 
हृदय की गति बढ़ गए,
मेरे अल्फाज़ बिखर गए!!
कैसे समेट सकू अल्फाजों को?
कैसे करू मैं व्यक्त? 
अक्लहीन। 
राह देखती रही वो,
मैं उन जवाब के राह में,
अनभिज्ञ विस्मृत हो गया।


काश! 
निहारती वो कशिश 
मेरी आंखों की,
शायद मेरी वे-पनाह
इश्क़ को बूझ पाती।
न उनकी नज़रे उठी
नाहि मैं व्यक्त कर 
सका। 


मैं व्यक्त करता गया,
वो समझने की कोशिश
करती गई, उनकी 
ग़मगीन स्र्ख़ को देख!
मेरी आंखे नम गई!!
सोच न सका मैं,
यही प्यार है उनकी,
जो व्यक्त नहीं कर पा रही।
एहसास किया मैं; 
इख़्तियार। 
उनकी मलिन सूरत को देख,
बे-क़रार थी वो, इज़हार 
के लिए; माशूक़ा। 
शायद् ये ख़तम हो 
जाए, इज़हार नहि
करने की गुस्ताखी। 

~अंकित 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts