वसंत का आगमन's image
Poetry1 min read

वसंत का आगमन

Anita ChandrakarAnita Chandrakar March 1, 2022
Share1 Bookmarks 41 Reads1 Likes

वसंत का आगमन

********************

खिल उठी कली कली, गुनगुनाने लगा मधुप।

ऋतु वसंत के आने से, निखरा धरा का रूप।

खेतों में महकी सरसों, झूमे सेमल पलाश।

आम बौर से लद गए, बढ़ गई मन की प्यास।

शीतल हवा बहकी बहकी, छोड़ चली सब लाज।

कूक रही कोयल डाल पर, हर्षित है ऋतुराज।

कलरव करते खग दल, गुंजित नभ से गीत।

रंगवासंती देख के, प्रमुदित हुआ मनमीत।

पुलकित प्रकृति ओढ़ ली, पीली पीली चुनरी।

सतरंगी वातावरण, चहुँओर खुशियाँ बिखरी।

अनिता चन्द्राकर

भिलाई नगर छत्तीसगढ़

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts