मैं थक गया हूँ's image
Poetry1 min read

मैं थक गया हूँ

Aman SinhaAman Sinha April 22, 2022
Share0 Bookmarks 21 Reads0 Likes

थक गया हूँ झूठ खुद से और ना कह पाऊंगा

पत्थरों सा हो गया हूँ शैल ना बन पाऊंगा

 

देखते है सब यहाँ मुझे अजनबी अंदाज़ से

पास से गुजरते है तो लगते है नाराज़ से

 

बेसबर सा हो रहा हूँ जिस्म के लिबास में

बंद बैठा हूँ मैं कब से अक्स के लिहाफ में

 

काटता है खालीपन अब मन कही लगता नहीं

वक़्त इतना है पड़ा के वक़्त ही मिलता नहीं

 

रात भर मैं सोचता हूँ कल मुझे करना है क्या

है नहीं कुछ हाथ मेरे सोच कर डरना है क्या

 

टोक ना दे कोई मुझको मेरी इस बेकारी में

कुछ नहीं है दोष मेरा मेरी इस लाचारी में

 

चाह “आम” बनने की है “खास” बनना है नहीं

राह रोके दूसरों का वो कंकड़ बनना नहीं

 

आज-कल हर घडी मेरे सब्र का इंतहान है

टूट सकती है कभी भी इस डोर में ना जान है

 

खौफ का साया यहाँ है हर तरफ फैला हुआ

ज़ुर्रतों का खान था जो छोटा सा थैला हुआ

 

 

खो गया जो ये समय तो लौट कर ना आएगा

ढल गयी जो ये जवानी उम्र भर पछताएगा

 

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts