दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-37's image
Kavishala DailyPoetry3 min read

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-37

ajayamitabh7ajayamitabh7 June 17, 2022
Share0 Bookmarks 19 Reads0 Likes


महाभारत युद्ध के समय द्रोणाचार्य की उम्र लगभग चार सौ साल की थी। उनका वर्ण श्यामल था, किंतु सर से कानों तक छूते दुग्ध की भाँति श्वेत केश उनके मुख मंडल की शोभा बढ़ाते थे। अति वृद्ध होने के बावजूद वो युद्ध में सोलह साल के तरुण की भांति हीं रण कौशल का प्रदर्शन कर रहे थे। गुरु द्रोण का पराक्रम ऐसा था कि उनका वध ठीक वैसे हीं असंभव माना जा रहा था जैसे कि सूरज का धरती पर गिर जाना, समुद्र के पानी का सुख जाना। फिर भी जो अनहोनी थी वो तो होकर हीं रही। छल प्रपंच का सहारा लेने वाले दुर्योधन का युद्ध में साथ देने वाले गुरु द्रोण का वध छल द्वारा होना स्वाभाविक हीं था।


उम्र चारसौ श्यामलकाया शौर्योगर्वित उज्ज्वल भाल,

आपाद मस्तक दुग्ध दृश्य श्वेत प्रभा समकक्षी बाल।


वो युद्धक थे अति वृद्ध पर पांडव जिनसे चिंतित थे,

गुरुद्रोण सेअरिदल सैनिक भय से आतुर कंपित थे।


उनको वधना ऐसा जैसे दिनकर धरती पर आ जाए,

सरिता हो जाए निर्जल कि दुर्भिक्ष मही पर छा जाए।


मेरुपर्वत दौड़ पड़े अचला किंचित कहीं इधर उधर,

देवपति को हर ले क्षण में सूरमा कोई कहाँ किधर?


ऐसे हीं थे द्रोणाचार्य रण कौशल में क्या ख्याति थी,

रोक सके उनको ऐसे कुछ हीं योद्धा की जाति थी।


शूरवीर कोई गुरु द्रोण का मस्तक मर्दन कर लेगा,

ना कोई भी सोच सके प्रयुत्सु गर्दन हर लेगा।


किंतु जब स्वांग रचा द्रोण का मस्तक भूमि पर लाए,

धृष्टद्युम्न हर्षित होकर जब समरांगण में चिल्लाए।


पवनपुत्र जब करते थे रणभूमि में चंड अट्टाहस,

पांडव के दल बल में निश्चय करते थे संचित साहस।


गुरु द्रोण के जैसा जब अवरक्षक जग को छोड़ चला,

जो अपनी छाया से रक्षण करता था मग छोड़ छला।


तब वो ऊर्जा कौरव दल में जो भी किंचित छाई थी,

द्रोण के आहत होने से निश्चय अवनति हीं आई थी।


अजय अमिताभ सुमन:सर्वाधिकार सुरक्षित



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts