एक महफ़िल हूँ में's image
Why do I writePoetry1 min read

एक महफ़िल हूँ में

Abhay DixitAbhay Dixit February 4, 2022
Share0 Bookmarks 43 Reads0 Likes
 कहानी रची है या इतिहास हूँ में,
 न जाने कबसे न ही आपके साथ हूँ में,
में तो बीत रहा एक अरसे से खुद के अकेलेपन में, 
न जाने लोग क्यों कहते है कि एक महफ़िल हूँ में।।
~ अभय दीक्षित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts