The School Of Poets

Recent Poetry

लुटी हुई तिजोरी पे ताला नहीं लगाते…

इस दिल की सुखन अब सुनायेगा कोई, नीड़ से पंक्षियों को अब उड़ायेगा कोई। जान जाये न मेरी अहमियत ये दुनिया, अपनी शुर्खियों को अब छुपायेगा कोई॥ देखकर कोई कर न दे घर पे...

Posted By Zo Zo Sandeep Yadav | Tagged , , | Leave a comment

नजारा मौत का

पता नहीं क्यों बहुत प्यार से नहलाया जा रहा था मुझे, मैं था गहरी नींद में और बहुत प्यार से सजाया जा रहा था मुझे| पता नहीं क्यों बहुत प्यार से नहलाया जा रहा...

Posted By Sachin Om Gupta | Tagged , , | Leave a comment

गोद माँ की एक बन्दिश है

उस जगह से सुरक्षित और दूसरी जगह क्या होगी माँ के गोद से बेहतर आरक्षित और दूसरी जगह क्या होगी पर गोद माँ की एक बन्दिश है जो हमे पथरीले जमी पे चलने से...

Posted By Ujjwal Kumar | Tagged , , | Leave a comment

राजनीति और भ्रष्टाचार लगते दोनों पक्के यार

चलन घोटालों का कैसा चला हर करोड़पति लुटेरा सा लगा वादा किया था काला धन वापस लाने का सफेद धन ही काला बन देखो आज विदेश चला । हाथ इमानदार है पप्पू का ईमानदार...

Posted By Dr. Kumar Vinod | Tagged , , | Leave a comment

इक नाम फिर आया, जिंदगी में।

  एक नाम फिर आ रहा है,  मेरी जिंदगी में, खलबली फिर मचा रहा है,  मेरी जिंदगी में। अब भी हमें याद है उनका हमको जिआना, ये भी जिआये जा रहा है, मेरी जिंदगी...

Posted By Vishal Babu | Tagged , , | Leave a comment

तेरा साथ

मुझे तेरी पलको की छांव में रहने दो । कुछ बातें जो अनकही सी है ,उसे कहने दो ।। उँगलियाँ जो तेरे जुल्फों में रुकी सी है । थोड़ी शरारतें इन्हें भी करने दो...

Posted By Deepak Thakur | Tagged , , | Leave a comment

तुम पलकें झुकाते हो हम पन्ने पलटते हैं

तुम पलकें झुकाते हो हम पन्ने पलटते हैं, हर पन्नों पर लिखी हैं कहानी नयी, हर कहानी तेरी आँखों की हैं नये राज़ लिये, तेरी आँखों को पढ़ लेते हैं किताबो की तरह।

Posted By Mitali Ok | Tagged , , | Leave a comment

अब जब ना चैन मिलता हैं

अब जब ना चैन मिलता हैं, हमे तब चैन मिलता है, बेघर बेकरार रहने की, आदत मिली है हमको, मर जाते है लोग जब, रुह को सुकून मिलता है, जिते हुए भी मरने जैसी,...

Posted By Mitali Ok | Tagged , , | Leave a comment

चलो आज एक कहानी कहता हूँ

चलो आज एक कहानी कहता हूँ जो गुजर रही उसे जवानी कहता हूँ। एक तरह से ही ये दिल धड़कता है अब इसे एक चीज पुरानी कहता हूँ। अब तक सफर में साथ है...

Posted By nilabh Singh | Tagged , , | Leave a comment

नसीब

जा ए नसीब माफ किया तुझ को मैं तुझे क्या कोसू, अब तु कोस ले मुझ को जाने के बाद अब उसके, कुछ नहीं बचा मुझ में अब तु छोड़ दें मुझ को या...

Posted By Shweta Gupta | Tagged , , | Leave a comment

कहानी

“कहानी किस्सों में दुनिया को दिखाने वाले वो लोग कहाँ चले गए पुराने वाले, मेरे इंतज़ार का न इम्तहां ले मेरे यार हम जो गुज़र गये तो वापस नहीं आने वाले, तुम्हारे लिबास पर...

Posted By Chandrveer Chaudhary | Tagged , , | Leave a comment

फ़साना बदल गया

तुमको यहाँ न देख दिवाना बदल गया नजरें हुई न चार फ़साना बदल गया दिल था उदास आज उसे खुद पता नहीं देखा हसीन ख़्वाब तराना बदल गया मुझको गरीब देख फिराते नजर सभी...

Posted By Neelu Choudhary | Tagged , , | Leave a comment

क्या कीजे

बाज़ुओं में तुम, मग़र तन्हा से हम, क्या कीजे वस्ल में भी गुफ्तुगू है, इतनि कम, क्या कीजे अब्र, अक्सर, प्यार बनकर ही बरसता है, पर अबकि बरसा,आंख भर भर,रोए हम,क्या कीजे जी, युं...

Posted By Vaibhav Singhal | Tagged , , | Leave a comment

मेरे ज़ज़्बात

दिल करता हे मेरा भी मै अपने हालात लिखूं । दिल मे दफन जो मेरे है मै वो जज्बात लिखूं ।। चाँद मे गरमी देखी, सूरज मे नरमी देखी, पहाड़ों को टूटते देखा, रेगिस्तान...

Posted By कृष्ण कुमार पाण्डेय | Tagged , , | Leave a comment

यूँ भी अपनों को आजमाया कर

यूँ भी अपनों को आजमाया कर झूठ को सच ही मान जाया कर सदावरकी भी इतनी ठीक नहीं कुछ दिनों को तू रूठ जाया कर ज़िंदा रहने का तू कुछ तो सुबूत दे कटे...

Posted By Dinesh Chauhan | Tagged , , | Leave a comment

Mahan Kavi (महान कवि)

Word Of The Day

Our Poets

Approved
Sumit Rawat
Approved
Vaibhav Singhal
Jump to page:
1 2 3 4 5

 

Please wait...

Never Miss Any Poetry, Join Our Family

Want to be notified when any New Poetry Published? Enter your email address and name below to be the first to know.