रात के टुकड़ों पे पलना छोड़ दे's image
1 min read

रात के टुकड़ों पे पलना छोड़ दे

Wasim BarelviWasim Barelvi
0 Bookmarks 93 Reads0 Likes

रात के टुकड़ों पे पलना छोड़ दे
शम्अ से कहना के जलना छोड़ दे

मुश्किलें तो हर सफ़र का हुस्न हैं,
कैसे कोई राह चलना छोड़ दे

तुझसे उम्मीदे- वफ़ा बेकार है,
कैसे इक मौसम बदलना छोड़ दे

मैं तो ये हिम्मत दिखा पाया नहीं,
तू ही मेरे साथ चलना छोड़ दे

कुछ तो कर आदाबे-महफ़िल का लिहाज़,
यार ! ये पहलू बदलना छोड़ दे.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts