वो सनम जब सूँ बसा दीदा-ए-हैरान में आ's image
2 min read

वो सनम जब सूँ बसा दीदा-ए-हैरान में आ

Wali Muhammad WaliWali Muhammad Wali
0 Bookmarks 217 Reads0 Likes

वो सनम जब सूँ बसा दीदा-ए-हैरान में आ

आतिश-ए-इश्क़ पड़ी अक़्ल के सामान में आ

नाज़ देता नहीं गर रुख़्सत-ए-गुल-गश्त-ए-चमन

ऐ चमन-ज़ार-ए-हया दिल के गुलिस्तान में आ

ऐश है ऐश कि उस मह का ख़याल-ए-रौशन

शम्अ' रौशन किया मुझ दिल के शबिस्ताँ में आ

याद आता है मुझे वो दो गुल-ए-बाग़-ए-वफ़ा

अश्क करते हैं मकाँ गोशा-ए-दामान में आ

मौज-ए-बे-ताबी-ए-दिल अश्क में हुई जल्वा-नुमा

जब बसी ज़ुल्फ़-ए-सनम तब-ए-परेशान में आ

नाला-ओ-आह की तफ़्सील न पूछो मुझ सूँ

दफ़्तर-ए-दर्द बसा इश्क़ के दीवान में आ

पंजा-ए-इश्क़ ने बेताब किया जब सूँ मुझे

चाक-ए-दिल तब सूँ बसा चाक-ए-गरेबान में आ

देख ऐ अहल-ए-नज़र सब्ज़ा-ए-ख़त में लब-ए-लाल

रंग-ए-याक़ूत छुपा है ख़त-ए-रैहान में आ

हुस्न था पर्दा-ए-तजरीद में सब सूँ आज़ाद

तालिब-ए-इश्क़ हुआ सूरत-ए-इंसान में आ

शैख़ यहाँ बात तिरी पेश न जावे हरगिज़

अक़्ल कूँ छोड़ के मत मज्लिस-ए-रिंदान में आ

दर्द-मंदाँ को ब-जुज़ दर्द नहीं सैद मुराद

ऐ शह-ए-मुल्क-ए-जुनूँ ग़म के बयाबान में आ

हाकिम-ए-वक़्त है तुझ घर में रक़ीब-ए-बद-ख़ू

देव मुख़्तार हुआ मुल्क-ए-सुलैमान में आ

चश्मा-ए-आब-ए-बक़ा जग में किया है हासिल

यूसुफ़-ए-हुस्न तिरे चाह-ए-ज़नख़दान में आ

जग के ख़ूबाँ का नमक हो के नमक-पर्वर्दा

छुप रहा आ के तिरे लब के नमक-दान में आ

बस कि मुझ हाल सूँ हम-सर है परेशानी में

दर्द कहती है मिरा ज़ुल्फ़ तिरे कान में आ

ग़म सूँ तेरे है तरह्हुम का महल हाल-ए-'वली'

ज़ुल्म को छोड़ सजन शेवा-ए-एहसान में आ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts