तुझ लब की सिफ़त लाल-ए-बदख़्शाँ सूँ कहूँगा's image
1 min read

तुझ लब की सिफ़त लाल-ए-बदख़्शाँ सूँ कहूँगा

Wali Muhammad WaliWali Muhammad Wali
0 Bookmarks 60 Reads0 Likes

तुझ लब की सिफ़त लाल-ए-बदख़्शाँ सूँ कहूँगा

जादू हैं तिरे नैन ग़ज़ालाँ सूँ कहूँगा

दी बादशही हक़ ने तुझे हुस्न-नगर की

यू किश्वर-ए-ईराँ में सुलैमाँ सूँ कहूँगा

तारीफ़ तिरे क़द की अलिफ़-वार सिरीजन

जा सर्व-ए-गुलिस्ताँ कूँ ख़ुश-अल्हाँ सूँ कहूँगा

मुझ पर न करो ज़ुल्म तुम ऐ लैली-ए-ख़ूबाँ

मजनूँ हूँ तिरे ग़म कूँ बयाबाँ सूँ कहूँगा

देखा हूँ तुझे ख़्वाब में ऐ माया-ए-ख़ूबी

इस ख़्वाब को जा यूसुफ़-ए-कनआँ सूँ कहूँगा

जलता हूँ शब-ओ-रोज़ तिरे ग़म में ऐ साजन

ये सोज़ तिरा मशअल-ए-सोज़ाँ सूँ कहूँगा

यक नुक़्ता तिरे सफ़्हा-ए-रुख़ पर नईं बेजा

इस मुख को तिरे सफ़्हा-ए-क़ुरआँ सूँ कहूँगा

क़ुर्बान परी मुख पे हुई चोब सी जल कर

ये बात अजाइब मह-ए-ताबाँ सूँ कहूँगा

बे-सब्र न हो ऐ 'वली' इस दर्द सूँ हरगिज़

जलता हूँ तिरे दर्द में दरमाँ सूँ कहूँगा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts