शग़्ल बेहतर है इश्क़-बाज़ी का's image
1 min read

शग़्ल बेहतर है इश्क़-बाज़ी का

Wali Muhammad WaliWali Muhammad Wali
0 Bookmarks 44 Reads0 Likes

शग़्ल बेहतर है इश्क़-बाज़ी का

क्या हक़ीक़ी ओ क्या मजाज़ी का

हर ज़बाँ पर है मिस्ल-ए-शाना मुदाम

ज़िक्र तुझ ज़ुल्फ़ की दराज़ी का

आज तेरी भवाँ ने मस्जिद में

होश खोया है हर नमाज़ी का

गर नईं राज़-ए-इश्क़ सूँ आगाह

फ़ख़्र बेजा है फ़ख़्र-ए-राज़ी का

ऐ 'वली' सर्व-क़द को देखूँगा

वक़्त आया है सरफ़राज़ी का

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts