जब तुझ अरक़ के वस्फ़ में जारी क़लम हुआ's image
1 min read

जब तुझ अरक़ के वस्फ़ में जारी क़लम हुआ

Wali Muhammad WaliWali Muhammad Wali
0 Bookmarks 35 Reads0 Likes

जब तुझ अरक़ के वस्फ़ में जारी क़लम हुआ

आलम में उस का नाँव जवाहर-रक़म हुआ

नुक़्ते पे तेरे ख़ाल के बाँधा है जिन ने दिल

वो दाएरे में इश्क़ के साबित-क़दम हुआ

तुझ फ़ितरत-ए-बुलंद की ख़ूबी कूँ लिख क़लम

मशहूर जग के बीच अतारद-रक़म हुआ

ताक़त नहीं कि हश्र में होवे वो दाद-ख़्वाह

जिस बे-गुनह पे तेरी निगह सूँ सितम हुआ

बे-मिन्नत-ए-शराब हूँ सरशार-ए-इम्बिसात

तुझ नैन का ख़याल मुझे जाम-ए-जम हुआ

जिन ने बयाँ लिखा है मिरे रंग-ए-ज़र्द का

उस कूँ ख़िताब ग़ैब सूँ ज़र्रीं-रक़म हुआ

शोहरत हुई है जब से तिरे शेर की 'वली'

मुश्ताक़ तुझ सुख़न का अरब ता अजम हुआ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts