वर्षा राग 1's image
1 min read

वर्षा राग 1

Uday PrakashUday Prakash
0 Bookmarks 52 Reads0 Likes


बरसे मेघ भरी दोपहर, क्षण भर बूंदें आईं
उमस मिटी धरती की साँसे भीतर तक ठंडाईं
आँखें खोलें बीज उमग कर गगन निहारें
क्या बद्दल तक जा पाएंगे पात हमारे?

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts